अनन्त आकाश गर्भ

एक जगह है – जहाँ न हिन्दी है न अंग्रेज़ी – न शब्द न अक्षर| ध्वनि का गर्भ है ये| देश, संस्कृति, धर्म, विचार के पहले का अनन्त आकाश गर्भ …

एक जगह है – जहाँ न हिन्दी है न अंग्रेज़ी – न शब्द न अक्षर| ध्वनि का गर्भ है ये|

मैं वहाँ से आई हूँ| मुझे भेजा गया है – तुमसे मिलने| दूत हूँ मैं| मुझे यह आदेश दिया गया है कि ध्वनि के गर्भ के विषय में तुम्हे बताऊँ|

देश, संस्कृति, धर्म, विचार के पहले का अनन्त आकाश गर्भ – जो किसी ग्रह और किसी लोक के उस पार नहीं है – तुम्हारे समक्ष है| यह जो तुम्हारे सामने रखा है, उसके अणु में है| विज्ञान के बीज में है|

जिस आंगन में तुम्हारे विचार निरन्तर नाचते रहते हैं, जहाँ से विचार उत्पन्न होते हैं – वह आंगन वह अनन्त आकाश गर्भ है| इस कमरे में जो रिक्त स्थान है – देखो – जहाँ कुछ नहीं है – वहाँ है वह अनन्त आकाश गर्भ – यहाँ है| आ जा रहा है – स्थिर है| भरा है|

इस कमरे में जो भी है – देखो – वह अनन्त है| हर दो अणु के बीच अनन्त आकाश| हर अणु के भीतर अनन्त आकाश| जितना भी भीतर जाओ, जाने के लिए चारों ओर आंगन और फैलता जाएगा|

तुम्हारे वक्ष में, तुम्हारे मस्तिष्क में, तुम्हारी त्वचा में, अनन्त आकाश| नेत्र में, दृष्टि पटल पर उभरते हर चित्र में, अनन्त आकाश| हर चित्र में वह अनन्त बीज, उस अनन्त बीज से उभरता हर चित्र|

ऊर्जा का गर्भ|

एक बड़ी हांडी है यह – यह सृष्टि – जिसका कोई ओर छोर नहीं – इसी में सब कुछ उमड़ता घुमड़ता रहता है|

और इसमें मैं हूँ| उस ऊर्जा का एक रूप, एक अभिव्यक्ति| प्यारी| मगर प्यारी या नहीं यह सर्वथा असंगत है| बस हूँ| ऊर्जा का एक उत्थान जो ऊर्जा के गर्भ में लोट रहा है, और ऊर्जा के गर्भ में ढल जाएगा|

तेरा मन क्षुब्ध है क्योंकि वह असीमित होना चाहता है मगर भिन्न भिन्न सीमाओं में ग्रस्त है| सीमाएं जिन्हें तुमने सच मान लिया है| असीम का एहसास हो तो कुछ कुछ असीम पर विश्वास की राह खुलेगी|

“असीम” यह कोई देवता नहीं, कोई ईश्वर नहीं| इसकी कोई कहानियाँ नहीं हैं| यह न अच्छा है न बुरा| बस है| तुम न अच्छे हो न बुरे| बस हो| यह जो हो रहा है – न अच्छा हो रहा है न बुरा हो रहा है – बस हो रहा है| श्रेयस, प्रेयस, उचित, अनुचित, सही, ग़लत सब मिथ्या है| इन शब्दों का कोई अर्थ नहीं| धर्म, अधर्म – इन शब्दों का कोई अर्थ नहीं है| यह बस सीमा में बांधे रहने को, सीमा में बंधे रहने को, सीमा ग्रस्त विचार हैं|

कोई न तुम्हे प्रताड़ित कर रहा है, न तुम्हे दण्ड दे रहा है| जो भी हो रहा है, बस हो रहा है| सदा आकार बदलती एक प्रक्रिया| प्रक्रिया को देखो, विस्मय के साथ| यह देखना, विज्ञान का प्रथम चरण है| यह विस्मय उस अनन्त आकाश की अनुभूति देगा| कण भर अनुभूति जो हमेशा तुम्हारे मन में रहेगी|