मुक्त कविता की सुविधा

गीत गतिरूप में अब मुक्त-कविता में स्थित लय को परखने के लिए सुविधा उपलब्ध है। इस सुविधा के उपयोग की विधि है –

दोस्तों, गीत गतिरूप में अब मुक्त-कविता में स्थित लय को परखने के लिए सुविधा उपलब्ध है।

इस सुविधा का आधार काव्यालय का यह लेख है: Basic Structure of Hindi Poetry – Rhythm in Mukt Kavita. छंदबद्ध न होने पर भी प्रभावकारी मुक्त कविता में एक निहित छंद और लय होता है| लेख में कई उदाहरणों के साथ यही चर्चा की गई है| छंद के अलावा और किस प्रकार से कवि रचना में लय की अनुभूति दे सकता है, इसकी भी चर्चा की गई है|

मुक्त कविता की सुविधा का उपयोग की विधि

विधि बताने  के लिए हमने यहाँ विनोद तिवारी जी की कविता “जीवन दीप” के अंश का उपयोग किया है।

यह विशाल ब्रह्मांड
यहाँ मैं लघु हूँ
लेकिन हीन नहीं हूँ।
मैं पदार्थ हूँ
ऊर्जा का भौतिकीकरण हूँ।
नश्वर हूँ,
पर क्षीण नहीं हूँ।
मैं हूँ अपना अहम‌
शक्ति का अमिट स्रोत, जो
न्यूटन के सिद्धान्त सरीखा
परम सत्य है,
सुन्दर है, शिव है शाश्वत है।
मेरा यह विश्वास निरन्तर
मेरे मानस में पलता है।
मेरा एक दीप जलता है।

मुक्त कविता अनुरूप विश्लेषण के लिए, “मुक्त कविता” चेक बाक्स पर क्लिक करिए।

ggfv1

प्रतिरूप में हर पंक्ति के कुल मात्रा संख्या के करीब एक काली रेखा बनेगी।

ggfv2

जिन पंक्तियों को लय के अनुसार आप एक साथ रखना चाहते हैं, उन्हें सम्मिलित करने के लिए इस पास की काली रेखा पर क्लिक करें। पंक्ति नीचे वाली पंक्ति के संग जुड़ जाएगी, और दोनों पंक्तियों को मिलाकर कुल मात्रा संख्या कितनी होती है, वह दिखेगा।

लम्बी खड़ी काली रेखा पर क्लिक करके आप सम्मिलित पंक्तियों को पुन: अलग कर सकते हैं।

ggfv3

आपकी कविता मूल कितने बहर का अनुसरण करती है, यह नीचे “मूल बहर” में स्पष्ट करें – जैसे कि यह कविता “जीवन दीप” का मूल बहर १६ है। मूल बहर की संख्या देने से सम्मिलित पंक्तियों की मात्रा संख्या मूल बहर से कितना ज्यादा या कम है, वह लाल में स्पष्ट होगा।

ggfv4

इसके अनुसार, आप अपनी पंक्तियों में संशोधन कर सकते हैं, जैसा आपको उचित लगे। गीत गतिरूप में पहले से जो दीर्घ स्वरों को एक मात्रा निर्धारित करने की, और आधे अक्षरों की मात्रा तय करने की सुविधा है, उनका उपयोग आप अपनी मुक्त कविता की पंक्तियों में भी कर सकते हैं।

ऊपर उदाहरण में “ऊर्जा” शब्द के उच्चारण में “ऊजा” जितना वक्त ही लगता है (पांचवी पंक्ति: ऊर्जा का भौतिकीकरण हूँ)। अत: हम “आधा र” पर क्लिक करके उसे शून्य मात्रा निर्धारित करेंगे।

ggfv5

परिणाम:

ggfv6

मुक्त कविता में लय की भूमिका के विषय में और विस्तार से जानने के लिए यह लेख पढ़ें


कुछ दोस्तों ने गीत गतिरूप को अपने कम्प्यूटर पर उतारने की सुविधा का अनुरोध किया है। जिससे कि आप इन्टरनेट के बिना गीत गतिरूप का उपयोग कर सकें। इस पर काम ज़ारी है। जैसे ही सुविधा उपलब्ध हम यहाँ पोस्ट करेंगे, और जिन्होंने अपना ईमेल दर्ज किया है, उन्हे ईमेल भेजेंगे।

गीत गाता चल ओ साथी, गुनगुनाता चल!


 

Free Verse Support

A new feature available in Geet Gatiroop to analyse the rhythm that is present (or absent) in a free-verse poem. Here is an introduction to how to use this feature –

Friends, there is a new feature available in Geet Gatiroop to analyse the rhythm that is present (or absent) in a free-verse poem. The basis of this feature is the following article on Kaavyaalaya: Basic Structure of Hindi Poetry – Rhythm in Free Verse

How to use the Free Verse feature 

A portion of the poem “Jeevan Deep” by Vinod Tewary, has been used here for the examples.

यह विशाल ब्रह्मांड
यहाँ मैं लघु हूँ
लेकिन हीन नहीं हूँ।
मैं पदार्थ हूँ
ऊर्जा का भौतिकीकरण हूँ।
नश्वर हूँ,
पर क्षीण नहीं हूँ।
मैं हूँ अपना अहम‌
शक्ति का अमिट स्रोत, जो
न्यूटन के सिद्धान्त सरीखा
परम सत्य है,
सुन्दर है, शिव है शाश्वत है।
मेरा यह विश्वास निरन्तर
मेरे मानस में पलता है।
मेरा एक दीप जलता है।

To use the Free Verse feature, click the “Free Verse” checkbox below the generated visualization.

ggfve1

Short black lines will show up beside the maatraa count of every line.

ggfve2

To combine lines which go together as per meter, click the short black dash.

ggfve2

The line will be combined with the line below. The total maatraa count of the combined lines will be displayed. To disconnect lines, click on the vertical combining line.

ggfve3

You can specify the basic periodicity of your poem in the “Base Count” box below the visualization. For example, for this poem “Jeevan Deep” the periodicity is of 16 maatraas.

By giving the Base Count, you can see how off or within the periodicity is the total maatraa of the combined lines. If the total maatraa count is off the basic periodicity, it will be displayed in red, along with an indication of how many maatraas are missing or are extra.

ggfve4

Accordingly, you can edit the lines of your poem as you find appropriate. The earlier features of adjusting the maatraa allocation for deergh swar and half letters can also be used for your free verse.

For example, in this poem excerpt, the second set of combined lines is coming to 65 maatraas. This is 1 maatraa more than 64, which is a multiple of 16.

ggfve5

This is due to the word ऊर्जा in the 5th line (ऊर्जा का भौतिकीकरण हूँ). ऊर्जा takes equal amount of time to say as ऊजा। This means, the half र consumes zero maatraa here. We can set it to zero by clicking on the half र।

Result –

ggfve6

To know about the role of rhythm in free verse in greater detail, please read this article.


Some of you have asked for an offline version of Geet Gatiroop that you can download and use on your computer without the internet. We are working on this and as soon as it is ready, there will be a post here on this blog, and you will receive an email if you have subscribed for Geet Gatiroop updates.


 

Software Launch: Visualizing Rhythm in Hindi Verse

We can sense the rhythm in verse while we read it. Poets and song writers can sense it while they write. Those writers clued-in into the technicalities of meter in verse, know how to check their meter by counting the beats on their fingers, in their heads or by jotting down on paper.

Many techniques have been created to visualize the rhythm in music. How can we tangibly see the rhythm in written verse?

The software “Geet Gatiroop” is a visualization technique which shows the rhythmic patterns in Hindi poems and songs.

These lines of the famous poem Satpura Ke Ghane Jungle by Bhawaniprasad Misra are visualized as:
Satpura Ke Ghane Jungle - Viz

Without the text:
Satpura Ke Ghane Jungle - Viz without text

You can obtain the visualizations by putting in the lines of Hindi text in Devanagari Unicode in the software interface. At a basic minimum, it gives the maatraa count of each line of the poem/song. This is the first and most basic aspect of rhythm in Hindi verse. Maatraas are the units that determine meter in Hindi verse, just as syllables do in English verse.

However, the software also shows many other significant patterns, such as the maatraa alignment, rhymes and other patterns and embellishments (alankaar). The visual mapping of the shapes and colors bring out the phonetic patterns.

The software can be used by:

  • Poets and Song Writers: For refining the structure of a poem or song while writing. Song writers can also use it to write verse as per a rhythmic structure given by the music composer.
  • Music Composers: For what-if analysis to see how they can fit a verse into the rhythm of their music. They can make modifications such as line breaks, adjustment of maatraa allocation and pronunciation, combining of letters to obtain the structure they need.
  • Literature and Linguistic Experts/Enthusiasts: For structural analysis of existing works of Hindi verse.

To get you started, three videos are available which introduce the concepts of maatraa counting using the software.


Part 1: Short Long Vowels / Laghu Deergh Swar (2:32)

Part 2: Flexibility in Urdu (6:56)

Part 3: Half Letters / Aadhaa Akshar (10:27)

More content will come your way in the following weeks.

I invite you to come, try out the software here – with your own writings or those that you love.