कई गीत कई रूप

काव्य कला को बेहतर जानने के लिए कई रचनाओं को विश्लेषणात्मक नज़रिए से देखना अनिवार्य है|

काव्यालय पर कविताओं का अब गतिरूप भी हम कविता के पास देख सकते हैं| उदाहरण स्वरुप, यह कुछ कवितायें हैं जो हाल में काव्यालय पर प्रकाशित की गई हैं| कविता के अंत में दाहिनी ओर उसका गतिरूप भी उपलब्ध हैं –

 
 
 

आपको आमन्त्रण है – इन लिंक पर पधारें और इन गीतों का पूरा गतिरूप देखें| आपको ज़रूर रुचिकर लगेंगी|

अगर आगे भी काव्यालय पर प्रकाशित होती रचनाओं की सूचना आप पाना चाहते हैं तो यहाँ अपना ईमेल दाखिल करें|

वर्ष २०१६ आपके लिए आनन्द भरे गीत लाए – इस शुभ कामना सहित –

वाणी मुरारका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *